रेलवे स्टेशनों पर ना तो तापमान चैक किया जा रहा है, ना ही सेनेटाईज किया जा रहा है

जब 2020 में कोरोना के चलते लाँकडाउन था। उसी दौरान कुछ स्पेशल ट्रेनों का आवागमन जारी था। उस समय कम से कम आने-जाने वाले यात्रियों का तापमान देखा जा जाता था। सेनेटाईज किया जाता था। लेकिन इस साल 2021 में जब कोरोना का कहर, लोगों के जीवन हाहाकार मचा रहा है। कोरोना के मामले बढ़ रहे है। लोगों की मौतें हो रही है। तब रेलवे स्टेशनों में ना तो, आने- जाने वाले यात्रियों को तापमान देखा जा रहा है और ना ही सेनेटाईज किया जा रहा है। जबकि देश में एक राज्य से दूसरे राज्य में आने –जाने के कारण लोगों में संपर्क स्थापित होने से लोगों में कोरोना के मामले बढ़ रहे है। निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन , पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन सहित अन्य देश के रेलवे स्टेशनों में कहीं पर भी कोई जांच प्रक्रिया देखने तक को नहीं मिल रही है।