राहुल गांधी ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए अपनी सभी रैलियां रद्द कीं कहा-” ऐसे हालात में बड़ी जनसभाएं करने का अंजाम सोच लें”

देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने महामारी से लोगों की सुरक्षा के लिए अपनी सभी चुनावी रैलियां रद्द कर दी हैं। वे देश के पहले राष्ट्रीय नेता हैं जिन्होंने इस तरह की घोषणा की है। अपने फैसले की जानकारी देते हुए राहुल गांधी ने देश के सभी राजनेताओं को सलाह देते हुए एक ट्वीट में लिखा है कि वे ऐसे हालात में बड़ी जनसभाएं करने का अंजाम सोच लें।
राहुल गांधी की पश्चिम बंगाल की चुनाव रैलियां तय थीं लेकिन कोरोना के मामलों और जनता को चुनावी रैलियों में कोरोना संक्रमण का ख़तरा देखते  हुए गांधी ने चुनाव रैलियां न करने का फैसला किया है। एक ट्वीट में कांग्रेस नेता ने तमाम राजनेताओं को सलाह देते हुए लिखा कि वे ऐसे हालात में बड़ी जनसभाएं करने का अंजाम सोच लें।
अपनी चुनावी रैलियां रद्द करने की घोषणा करने से थोड़ी देर पहले राहुल ने एक अन्य ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। मोदी के बंगाल की एक रैली में भीड़ को देखकर यह कहने पर ” कि उन्‍होंने यहां इतनी भीड़ पहली बार देखी है, पर तीखा कटाक्ष करते हुए राहुल गांधी ने कहा – ‘बीमारों और मृतकों की भी इतनी भीड़ पहली बार देखी है।’
राहुल ने आरोप लगाया है कि मोदी सरकार कोविड-19 की परिस्थितियों से निपटने में बुरी तरह नाकाम रही है। इससे पहले भी राहुल गांधी ने कोरोना वायरस महामारी को मोदी की ओर से लाई गई तबाही करार दिया था। उन्‍होंने कहा था, ‘शमशान और कब्रिस्तान– जो कहा सो किया।’ देश में अस्पतालों में बेड और वेंटिलेटर की कमी की रिपोर्ट के बाद से राहुल ने एक और ट्वीट में कहा, ‘अस्पताल में कोई परीक्षण नहीं हो रहा है, कोई बिस्तर नहीं है, कोई वेंटिलेटर नहीं है, कोई ऑक्सीजन नहीं है, कोई टीका नहीं है, बस उत्सव का ढोंग है पीएम केयर्स ?’