मजदूरों का पलायन जारी है

“मजबूरी में मजदूरी करते है हम लोग” ये कहना है दिल्ली से अपने गांव जाने वाले मजदूर रमन और गोपाल का, उन्होंने तहलका संवाददाता को बताया कि दिल्ली में जब से कोरोना आया है, तब से अगर किसी पर सबसे ज्यादा मार पड़ी है तो, वो मजदूरों है,  क्योंकि बीमारी को रोकने के लिये सरकार सबसे पहले  मजदूरों का काम  रोकती है। जहां पर मजदूर काम करता है वहां का ठेकेदार पैसा देने में आनाकानी करने लगता है। कहता है कि अभी पैसा कंपनी या मालिक नहीं दिये है। तो मजदूरों को अपनी मेहनत का पैसा वसूलने में काफी दिक्कत होती है। मजदूरों का कहना है कि सरकार मजदूरों को लेकर चाहे जितनी ही बात कर लें। वो सिर्फ बातें ही होती है। क्योंकि मजदूरों को ना तो कोई राजनेता जानता है और ना ही अधिकारी ऐसे हालात में मजदूरों का शोषण होता है।