भारत की तालिबान से पहली बार बातचीत, दोहा में स्तनेकजई से मिले क़तर में राजदूत मित्तल

अमेरिकी फ़ौज के अंतिम दस्ते के काबुल से बाहर जाते ही भारत ने तालिबान से हाल के घटनाक्रम में पहली बार बातचीत की है। कतर में भारत के राजदूत दीपक मित्तल ने तालिबान के दोहा राजनीतिक कार्यालय के प्रमुख शेर मोहम्मद अब्बास स्तनेकजई से यह मुलाकात की है। इसमें प्रमुख रूप से भारतीयों की सकुशल वापसी और अफगानिस्तान की ज़मीन का किसी भी रूप में भारत के खिलाफ इस्तेमाल न होने देने पर जोर दिया गया है।

भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक ब्यान जारी करके इस बात की पुष्टि की है। उधर काबुल से अमेरिकी फ़ौज पूरी तरह वापस चली गयी है। अमेरिका की सेना का अंतिम दस्ता आज काबुल से प्लेन से रवाना हो गया। पेंटागन ने एक ब्यान जारी करके इसकी जानकारी दी है।

उधर तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्ज़ा करने के बाद पहली बार भारत ने आधिकारिक तौर पर उसके प्रतिनिधि से बातचीत की है। यह बातचीत क़तर में हुई है। बातचीत में अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों की सकुशल वापसी के अलावा के अलावा अफगानिस्तान की स्थिति को लेकर भारत ने अपनी चिंताओं से तालिबान के नेता को अवगत कराया।

अपने ब्यान में विदेश मंत्रालय ने बताया – ‘आज कतर में भारत के राजदूत दीपक मित्तल ने तालिबान के दोहा स्थित राजनीतिक दफ्तर के प्रमुख शेर मोहम्मद अब्बास स्तनेकजई से मुलाकात की है। बातचीत तालिबान के अनुरोध पर दोहा स्थित भारतीय दूतावास में हुई।’