एसी और फ्रिज के कारीगरों के सामने रोजी- रोटी का संकट

अगर कोरोना का तांडव ऐसे ही चलता रहा और आँक्सीजन की किल्लत  बनी रही तो , वो दिन दूर नहीं जब छोटे-छोटे व्यापारियों और कारीगरों  के सामने सही मायने में रोजी रोटी का संकट गहराने में देर नहीं लगेगी।तहलका संवाददाता को एसी और फ्रिज के दुकानदारों ने बताया कि लाँकडाउन के चलते एसी और फ्रिज की बिक्री बहुत कम हो रही है। लेकिन उन कारीगरों पर सबसे अधिक आर्थिक संकट गहराया है। जो फ्रिज की रियेरिंग और एसी की रिपेयरिंग कर अपना जीवन- यापन करते थे। दिल्ली के सलीम जो सालों साल से एसी और रिपेयरिंग का काम कर अपना जीवन यापन करते आ रहे थे। लेकिन पिछले साल 2020 में कोरोना की दस्तक के बाद देश व्यापी लाँकडाउन के चलते उनका कारोबार बंद हो गया था। इस साल आँक्सीजन की कमी के चलते कंपनियों में काम बंद है। सो उनका कारोबार एक तो लाँकडाउन के चलते बंद है और गैस ना मिलने से एसी और फ्रिज की मरम्मत तक नहीं कर पा रहे है।