अबकी बार किसकी ललकार?

फोटोः एएफपी
फोटोः एएफपी

लगभग 6 महीने के लंबे दौरे और विश्व कप में बढ़िया प्रदर्शन के बाद भी जब कप्तान धोनी झुके कंधे और थके साथियों के  साथ वतन वापस लौट रहे होंगे तब आईपीएल के क्रिकेट के कोलाहल ने शायद ही उन्हें चैन से सोने दिया होगा. विश्व कप के बीत जाने के एक हफ्ते के भीतर  ही आईपीएल का आगाज हो चुका है. कहनेवाले तो इसे क्रिकेट का ‘ओवरडोज’ भी बता रहे हैं जो खिलाड़यों को खुदा माने जानेवाले देश में खेल के खुमार को धीरे-धीरे कम कर देगा. हालांकि अथाह पैसे, रंगबिरंगी रोशनी, चमक-दमक, और चीयरलीडर्स के भड़कीले नाच के नीचे ये सारे सवाल फिलहाल दबे ही हुए हैं. नई उम्र के क्रिकेट के कद्रदान तो 8 अप्रैल से शुरू हो चुके आईपीएल के आठवें संस्करण को लेकर पहले की तरह ही रोमांचित हैं.

पिछले साल आईपीएल के आधे मैच को संयुक्त अरब अमीरात में आयोजित किया गया था. इस बार ये पूरी तरह से भारतीय संस्करण होगा. आठवें आईपीएल में भी 8 टीमें ही एक-दूसरे के साथ खिताब के लिए होड़ कर रही हैं. लीग में किसी भी नई टीम को जगह नहीं दी गई है. देश में क्रिकट के संचालन की सबसे बड़ी संस्था बीसीसीआई की माने तो ऐसा फिक्सिंग और सट्टेबाजी पर लगाम लगाने के लिए किया गया है. हालांकि मैच या स्पॉट फिक्सिंग को लेकर अभी भी बीसीसीआई के पास कोई स्पष्ट नीति नहीं हैं. इसका जवाब उनके पास भी नहीं  है कि अगर कोई गेंदबाज लगातार ‘नो’ या ‘वाइड’ बॉल फेंकता है तो क्या वो अपने आप संदेह की सीमा में नहीं आ जाएगा?

सभी टीमों के सामंजस्य और संतुलन की बात करें तो बिना किसी विवाद के चेन्नई सुपरकिंग्स को सबसे ऊपर रखा जा सकता है. पिछले सात संस्करण में टीम के शानदार सफर से ये साबित भी होता है. महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई वाली सुपरकिंग्स अबतक चार बार फाइनल में पहुंची है और दो बार खिताब  अपने नाम किया है. बाएं हाथ के विध्वंसक बल्लेबाज ब्रैंडन मैकुलम और कैरिबियाई ओपनर ड्वैन स्मिथ के तौर पर धोनी के पास सबसे शानदार सलामी जोड़ी है. मध्यक्रम में सुरेश रैना, डूप्लेसिस और खुद धोनी के तौर पर टीम के पास विशेषज्ञ बल्लेबाजों की ऐसी टोली है जो किसी भी गेंदबाजी आक्रमण की बखिया उधेड़ने का माद्दा रखती है. कई नाजुक मौकों पर टीम को एक धारदार तेज गेंदबाज की कमी अखरती जरूर होगी लेकिन ज्यादातर मौकों पर मध्यम तेज गेदबाज इसकी भरपाई करते रहे हैं.

अगर कागज पर टीम की ताकत को आंका जाए तो रॉयल चैलेंजर्स बंगलुरु हमेशा मजबूत नजर आती है, लेकिन मैदान पर दबाव के दरम्यान बार-बार बिखरने की उसकी आदत उसे साउथ अफ्रीकी टीम के समकक्ष खड़ा कर देती है. टीम की कमान विराट कोहली के हाथों में है. उनकी अगुवाई में टीम ने 2009 और 2011 में खिताबी मुकाबला भी खेला. बावजूद इसके विजेता होने का सम्मान अभी उनके हाथ नहीं आया है. टीम के पास क्रिस गेल, एबी डिविलियर्स और डेरेन सैमी जैसे दमखमवाले बल्लेबाजों की कतार मौजूद है. पिछले साल इस सूची में युवराज सिंह भी शामिल हो गए थे. फिर भी टीम का प्रदर्शन औसत ही रहा. इस बार टीम ने ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क को अपने आक्रमण के बेड़े में शामिल किया है. विश्व कप में अपनी सटीक गेंदबाजी से सबसे सफल खिलाड़ी का तमगा हासिल करने वाले स्टार्क के आने से टीम की तंदरुस्ती में इजाफा होना तय है. हालांकि शुरुआती मैचों में वो उपलब्ध नहीं रहेंगे. ऐसे में टीम के आक्रमण की कमान वरुण एरोन और एडम मिलने के हाथों में है, जिनके पास यहां खुद को साबित करने का श्रेष्ठ मौका होगा.

स्पॉट फिक्सिंग को लेकर बीसीसीआई के पास कोई स्पष्ट नीति नहीं है. कोई गेंदबाज ‘नो’ या ‘वाइड’ बॉल फेंकता है तो क्या वो संदेह के घेरे में नहीं आ जाएगा?

साल 2008 में जब आईपीएल आरंभ हुआ था तब कोलकाता नाइट राइडर्स  एक कमजोर टीम आंकी गई थी. लेकिन जल्द ही गौतम गंभीर की कप्तानी में उसने एक जुझारु टीम की हैसियत हासिल कर ली. बिना किसी विस्फोटक विशेषण और सितारा खिलाड़ियों की कमी के बीच भी टीम ने 2012 और 2014 में आईपीएल का खिताब अपने नाम किया. रॉबिन उथप्पा, युसूफ पठान और मनीष पांडेय के तौर पर गंभीर के पास विपक्षी गेंदबाजों पर टूटकर पड़नेवाले बल्लेबाजों का विकल्प मौजूद है. गेंदबाजी में सुनील नरेन टीम के तुरुप के इक्के हैं. इस बार केसी करियप्पा अपने फिरकी के फंदे से आक्रमण को थोड़ी और धार दे रहे हैं. अपनी रहस्यमयी गेंदबाजी से बल्लेबाजों को बेदम करनेवाले करियप्पा पहले से ही चर्चा में हैं. अगर केकेआर अपनी क्षमता के मुताबिक प्रदर्शन करती है तो इस बार भी खिताब की दौड़ से उसे दरकिनार नहीं किया जा सकता.

पहले आईपीएल का खिताब अपने नाम करनेवाली राजस्थान रॉयल्स को उस सुनहरे मौके का इंतजार इस बार भी होगा. साल 2008 के बाद टीम कभी भी उस प्रदर्शन को नहीं दोहरा पाई है. बावजूद इसके रॉयल्स विपक्षी टीम को कड़ी टक्कर देने का इतिहास तो रखती ही है. स्टीव स्मिथ, अजिंक्य रहाणे, संजू सैमसन, टिम साऊदी, जेम्स फॉकनर और कप्तान शेन वॉटसन जैसे खिलाड़ी अपने दम पर मैच का पासा पलट सकते हैं. समूह के तौर पर देखें तो स्मिथ, रहाणे और वॉटसन टीम को ठोस शुरुआत दिलाने की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. जबकि निचले क्रम पर फॉकनर और स्टुअर्ट बिन्नी को बड़े से बड़ा लक्ष्य हासिल करने की आखिरी कोशिश करनी होगी. हां, शेन वार्न के बाद टीम को कोई स्तरीय स्पिनर नहीं मिल पाया है. 44 साल के प्रवीण तांबे अपने चर्चित लेग ब्रेक की बदौलत इस कमी को पाटने की पूरी कोशिश करेंगे.

मुंबई इंडियंस की बात करें तो हर साल इसे खिताब का दमदार दावेदार माना जाता है. हालांकि रोहित शर्मा की अगुवाई वाली ये टीम सिर्फ साल 2013 में ही कप पर कब्जा जमा पाई. कभी टीम के कप्तान रहे रिकी पोंटिंग इस बार कोच के तौर पर टीम को अपनी सेवाएं दे रहे हैं. कंगारुओं को दो बार विश्व विजेता बनानेवाले पोंटिंग अपनी नई पारी को सफल बनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहेंगे. एक समूह के तौर पर मुंबई इंडियंस संतुलित नजर आती है. विपक्षी आक्रमण को तहस-नहस करनेवाले विस्फोटक बल्लेबाजों के साथ पिच पर विकेटों की आंधी उड़ानेवाले गेंदबाजों की पूरी फौज रोहित की मदद के लिए मौजूद है. इस बार टीम को विजेता बनाने की जिम्मेदारी एरॉन फिंच, केरॉन पोलार्ड, लासिथ मलिंगा, जोश हेजलवुड और खुद रोहित शर्मा के कंधे पर है.

किंग्स इलेवन पंजाब की हैसियत हमेशा ही एक ऐसी विपक्षी की रही जो कभी भी मैदान पर पूरा दमखम नहीं झोंकती. लेकिन पिछले साल उसने अचानक ही अपना स्तर इतना ऊंचा कर लिया कि उसके सामने विरोधी टीमें बौनी नजर आने लगीं.  2013 में इसने न सिर्फ खिताबी मुकाबला खेला बल्कि पूरे टूर्नामेंट में जबरदस्त प्रतिस्पर्द्धा की मिसाल भी पेश की. कप्तान जॉर्ज बेली के अलावा वीरेंद्र सहवाग और कोच संजय बांगड़ की इसमें बड़ी भूमिका है. मिशेल जॉनसन, अक्षर पटेल, करनवीर सिंह और संदीप शर्मा गेंदबाजी आक्रमण की जिम्मेदारी सही से संभालें तो टीम इस बार भी अपना शानदार प्रदर्शन दोहरा सकती है. लेकिन टीम को विजेता बनाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी ये होगा कि ग्लेन मैक्सवेल और डेविड मिलर का बल्ला विरोधी गेंदबाजों के सामने सही सलीके और सही समय पर बोले. आईपीएल के पहले संस्करण में शानदार प्रदर्शन करनेवाले दिल्ली डेयरडेविल्स उसके बाद औसत प्रदर्शन करने में भी असफल रही है. पिछले साल मुरली विजय, दिनेश कार्तिक और केविन पीटरसन जैसे महंगे खिलाड़ियों के आने से टीम को उम्दा प्रदर्शन की उम्मीद थी. बावजूद इसके उसने आखिरी पायदान पर ही अपना सफर समाप्त किया. इस बार दिल्ली ने युवराज सिंह पर दांव खेला है. आईपीएल के सबसे महंगे खिलाड़ी युवराज के साथ एल्बी मोर्केल और जहीर खान पर भी इस बार बड़ी जिम्मेदारी है. टीम की कमान नए कप्तान जेपी ड्यूमनी के हाथों में है जो हमवतन कोच गैरी कर्स्टन के साथ टीम में जुझारुपन के तत्व को तलाशने की कोशिश करेंगे.

शानदार खिलाड़ियों से सुसज्जित सनराइजर्स हैदराबाद के पिछले साल का प्रदर्शन संतोषजनक ही कहा जा सकता है. टीम किसी तरह दूसरे दौर तक पहुंचने में कामयाब रही. इस साल डेविड वार्नर की अगुवाई में टीम को बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है. टीम के पास शिखर धवन, डेल स्टेन, भुवनेश्वर कुमार और ट्रेंट बाउल्ट के तौर पर शानदार खिलाड़ियों की भरमार है. अगर ये इकाई के तौर पर प्रदर्शन करते हैं तो कोई वजह नहीं कि सनराइजर्स के सिर पर आईपीएल के आठवें संस्करण का ताज ना सजे.

आईपीएल पर हमेशा ही गैरसंजीदा होने के आरोप लगते रहे हैं. आरोप ये भी हैं कि इस खेल ने बॉल पर बल्ले के वर्चस्व को बढ़ने में बड़ी भूमिका निभाई है

आईपीएल पर हमेशा ही गैरसंजीदा होने के आरोप लगते रहे हैं. आरोप ये भी है कि इस खेल ने बॉल पर बल्ले के वर्चस्व को बढ़ाने में बड़ी भूमिका निभाई है. कहने वाले तो यहां तक कहते हैं कि पिछले सात सालों में आईपीएल ने क्रिकेट के इस छोटे प्रारूप को भी बेहद ऊबाऊ, थकाऊ और एकतरफा बना दिया है. ऐसे में इस बार कागज पर बेहद मजबूत दिखनेवाली इन आठों टीमों पर ही आईपीएल को अधिक रोमांचक और मनोरंजक और प्रतिस्पर्द्धात्मक बनाने की जिम्मेदारी होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here