सुनीता तोमर…

0
140

sunita

ये लाइनें 30 सेकेंड के उस वीडियो की हैं, जिसे केंद्र सरकार ने तंबाकू निषेध अभियान के तहत जारी किया था. अभियान की ब्रांड एंबेसडर और वीडियो का चेहरा कैंसर पीड़ित सुनीता तोमर थीं. ‘थीं’ इसलिए क्योंकि सुनीता की आवाज अब हमेशा के लिए खामोश हो गई है. इस महीने की एक तारीख को उन्होंने ग्वालियर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया. कैंसर पीड़ित सुनीता को जीवन के आखिरी दिनों में किसी तरह की सरकारी सहायता भी नसीब न हो सकी.

केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार आने के बाद से तमाम अभियान चलाए गए. अभियानों के जरिये देश का चेहरा बदलने का डंका पीटा गया. स्वच्छ भारत अभियान, मेक इन इंडिया, जनधन योजना, डिजिटल इंडिया, सांसद आदर्श ग्राम योजना… ये कुछ नाम हैं, जिन्हें वर्तमान सरकार ने शुरू कर लोगों का जीवन बदलने का दावा किया है. अभियान की सफलता या असफलता उस समय की सरकार के चाल, चरित्र और चेहरे की हकीकत को बयां करता है. तंबाकू निषेध अभियान ऐसा ही एक नाम है, जो सरकार की प्राथमिकताओं में से एक है. इसकी सफलता इस बात से जाहिर हो रही है कि अभियान का चेहरा रहीं सुनीता तोमर की दरिद्रता में असमय मौत हो गई. 28 वर्षीय सुनीता की मौत हमारे सरकारी तंत्र और कार्यप्रणाली के चेहरे पर करारा तमाचा है.

देश के हृदय प्रदेश कहे जानेवाले मध्य प्रदेश के छोटे से जिले भिंड की रहने वाली सुनीता की शादी 14 साल की कम उम्र में ट्रक ड्राइवर बृजेंद्र सिंह तोमर से हुई थी. उनके दो बच्चे ध्रुव (13) और गंधर्व (10) हैं. सुनीता बच्चों की शिक्षा को लेकर बहुत आग्रही थीं.

पान हमारे खानपान का अभिन्न हिस्सा रहा है. अब गुटका-तंबाकू हमारे खानपान का अपभ्रंश हिस्सा हो चले हैं. तंबाकू या गुटका चबाना हमारे समाज में दबंगई और रुतबे का प्रतीक समझे जाते हैं. सुनीता भी तंबाकू चबाने की लत का शिकार थीं. धीरे-धीरे यही लत उनके लिए घातक साबित हो गई. तंबाकू खाने के कुछ सालों के दौरान ही सुनीता के ओरल कैंसर से पीड़ित होने का पता चला. पति बृजेंद्र के अनुसार, ‘सुनीता की बीमारी का पता साल 2013 में चला था. भिंड के एक अस्पताल में कुछ समय इलाज के बाद डॉक्टरों ने उन्हें मुंबई के टाटा मेमोरियल अस्पताल में रेफर कर दिया.’ मुंबई में डॉक्टरों ने चेकअप के बाद ऑपरेशन करने की बात कही. ऑपरेशन के लिए पैसों की जरूरत पड़ी तो वर्ल्ड लंग फाउंडेशन नाम की संस्था आगे आई. यह विकासशील देशों में कैंसर पीड़ितों की इलाज में मदद करती है.

harshvardhan

तंबाकू सेवन से ऑपरेशन के बाद उनका चेहरा विकृत होने के बाद लोग उनसे बात करने में भी कतराने लगे थे. सुनीता को खाने में सिर्फ तरल पदार्थ ही दिया जाता था. टाटा मेमोरियल अस्पताल में उनका इलाज सर्जन डॉ. पंकज चतुर्वेदी की देखरेख में हो रहा था. पंकज कैंसर का इलाज करने के साथ ही इसके प्रति जागरुकता फैलाने के लिए अभियान भी चलाते हैं. सुनीता के बारे में पता चलने पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने उन्हें अपने अभियान का चेहरा बनाया. साल 2014 में मुंबई में इलाज के दौरान ही सुनीता पर कैंसर के प्रति जन जागरुकता अभियान के तहत 30 सेकेंड का वीडियो शूट किया गया.


मोदी के नाम खत

बृजेंद्र के अनुसार, सुनीता ने अपनी मौत से कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक मार्मिक पत्र लिखा था. जिसके मुताबिक, ‘गुटका हर दुकान पर खुलेआम बिकता है. छोटे बच्चों से लेकर नौजवान, बूढ़े, महिलाएं आदि इसका सेवन कर रहे हैं. इसलिए तंबाकू की बिक्री पर रोक जरूरी है. कानून तो है लेकिन उसका पालन नहीं हो रहा है. मैं किसी को तंबाकू खाते देखती हूं तो मेरी रूह कांप जाती है. पैकेट में सचित्र चेतावनी लोगों को जागरूक करती है और  इससे वे तंबाकू सेवन छोड़ने के लिए सोचने पर मजबूर होते हैं.’

———————————————————————————————————————

मोदी के मन की बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ महीनों पहले नशे की लत छोड़ने को लेकर ‘मन की बात’ की थी. इसमें उन्होंने कहा था, ‘ड्रग्स, नशा ऐसी भयंकर बीमारी है, जो अच्छे-अच्छो को हिला देती है. परिवार तबाह हो जाता है. समाज-देश सब कुछ बर्बाद हाे जाता है. ड्रग्स तीन बातों को लाता है और मैं उसको कहूंगा, एक बुराइयों वाला 3डी है. एक डी है ‘डार्कनेस’, दूसरा है ‘डिस्ट्रक्शन’ और तीसरा है ‘डीवास्टेशन’. नशा अंधेरी गली में ले जाता है. विनाश के मोड़ पर लाकर खड़ा कर देता है और बर्बादी का मंजर इसके सिवाय कुछ नहीं मिलता.


 

पिछले साल अगस्त में इस वीडियो की लॉन्चिंग के लिए तब के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने खासतौर पर सुनीता को परिवार के साथ दिल्ली आने का बुलावा भेजा था. 35 वर्षीय पति बृजेंद्र के अनुसार, ‘सरकार की ओर से हमें एक रुपया भी नहीं मिला. कार्यक्रम में सुनीता को सिर्फ ‘श्रीफल’ देकर सम्मानित किया गया. मुझे लगा था कि वीडियो में आने के बाद सरकार की ओर से आर्थिक मदद जरूर मिलेगी, मगर ऐसा कभी नहीं हुआ.’ उस समय कार्यक्रम के दौरान सुनीता ने लोगों से तंबाकू न खाने और तंबाकू रहित विश्व का आह्वान किया था. इस समय पूर्व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने देश में गुटका, खैनी, जर्दा जैसे तंबाकू उत्पादों के पैक पर ग्राफिक चेतावनी लागू करने की घोषणा भी की थी.

बृजेंद्र ने बताया, ‘ऑपरेशन के बाद सुनीता सामान्य जीवन जी रही थीं. कभी-कभी उन्हें सांस लेने में तकलीफ होती थी. 28 मार्च की रात में सुनीता की तबीयत बिगड़ी तो मैंने उन्हें भिंड के एक अस्पताल में भर्ती कराया. यहां राहत नहीं मिली तो डॉक्टरों ने ग्वालियर रेफर कर दिया.’ यहां इलाज शुरू हुए एक-दो दिन ही हुए थे कि एक अप्रैल को जिंदगी से संघर्ष करते हुए सुनीता ने दम तोड़ दिया.

वे भाजपा सांसद और अधीनस्थ विधान संबंधी लोकसभा समिति के अध्यक्ष दिलीप गांधी के बयान से भी नाराज थीं. इसे लेकर उन्होंने प्रधानमंत्री काे पत्र भी लिखा था. दिलीप गांधी ने कहा था, ‘तम्बाकू ही कैंसर की वजह नहीं है.’ इसको लेकर सुनीता काफी नाराज थी. जानकारों के मुताबिक देश में तंबाकू का सेवन ही कैंसर की बड़ी वजह है.

बृजेंद्र ने बताया, ‘सुनीता ने प्रधानमंत्री से अपील की थी कि तंबाकू के पैकेटों पर तंबाकू निषेध से संबंधित चित्र बड़े आकार में बनाए जाएं, ताकि लोगों को पता चले कि ये कितने खतरनाक हैं. सुनीता के घरवालों का आरोप है कि सरकार की ओर से किसी भी तरह की आर्थिक मदद नहीं मिली. बृजेंद्र कहते हैं, ‘सरकार अगर जरा-सा भी संवेदनशील हो जाती तो सुनीता की जान बचाई जा सकती थी. उस प्रचार अभियान के बाद हमें लगा था कि सरकार हमारी मदद करेगी, लेकिन सरकार का कोई भी नुमाइंदा हमारे परिवार का हाल तक जानने नहीं आया. मैंने सुनीता के इलाज के लिए 3.5 लाख रुपये का कर्ज ले रखा है. कर्ज के बोझ तले बच्चों का भविष्य अंधेरे में नजर आने लगा है.’ अब सवाल यह उठता है की सुनीता भारत सरकार के तंबाकू निषेध अभियान का इतना बड़ा चेहरा थीं तो उनको सरकारी सहायता क्यों नहीं मिली? क्या सरकार जनता का ऐसे ही शोषण करेगी? अगर सुनीता के साथ ये हुआ तो आम जनता के साथ क्या होता होगा. हमारे देश के नीति निर्माताओं को इस पर सोचने की जरूरत है. सुनीता की मौत सरकारी तंत्र की कार्यप्रणाली में लगे लापरवाही के घुन की कहानी बयां करती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here