चारों खाने चित्त

पहले सपा ने मुलायम सिंह को राष्ट्रीय राजनीति के लिए मुक्त कर दिया था मगर अब यह समझा जा रहा है कि वे खुद ही पार्टी के कामकाज पर फिर से नियंत्रण करके पार्टी को ऊपर उठाने की कोशिश करेंगे. सपा इस वक्त ऐसी स्थिति में है कि अगर वह वाकई संभलने की गंभीर कोशिश करती है तो उसके पास कुछ सभावनाएं बरकरार दिखती हैं. उम्मीद की जानी चाहिए कि  सपा और अखिलेश सरकार जल्द ही कुछ बेहद कड़े कदम उठाएगी. इनमें मंत्रिमंडल की सफाई से लेकर पार्टी संगठन और लाल बत्तियों की छंटाई जैसे काम जल्द ही हो सकते हैं. अगर यहां से भी पार्टी ने कोई सबक नहीं लिया तो अखिलेश सरकार के कार्यकाल के बाद सपा के लिए एक काली अंधेरी सुरंग का रास्ता खुला है. वैसी ही सुरंग जिससे उसकी प्रतिदद्वंदी बसपा पहले ही गुजर रही है.

muslim_saansadबसपा के लिए तो लोकसभा चुनाव एक भयानक स्वप्न ही बन गए हैं. मायावती के अति आत्मविश्वास को चुनाव नतीजों ने बुरी तरह झकझोर दिया है.  पार्टी के लिए यह हार इसलिए भी खतरनाक संकेत है क्योंकि पार्टी की यह लगातार दूसरी बड़ी हार है. बसपा के लिए विधानसभा की पराजय का अवसाद अभी खत्म भी नहीं हो पाया था कि यह नई और भीषण पराजय सामने आ गई है. इस हार ने लगातार अकेली पड़ती जा रही मायावती को और अकेला बना दिया है. इससे मायावती की कथित सोशल इंजीनियरिंग की तो भद्द पिटी ही है. मायावती का भरोसेमंद वोट बैंक भी बिखरता हुआ दिखाई देने लगा है. हालांकि चुनाव के अंतिम दौर में मायावती को इस बात का अंदेशा हो गया था और इसीलिए उन दिनों वे लगातार लखनऊ मंे प्रेस कॉन्फ्रेंस करके अपने वोटरों को सचेत करने की कोशिश करने में लगी थीं. मगर न उनकी अपील से दलित मुस्लिम गठजोड़ कायम रह सका और न ही उनका खुद का अपना वोट बैंक. मायावती अब इस सबके लिए भले ही भाजपा और उनके नेताओं के ‘शैतानी भरे हथकंडों’ को दोषी ठहराएं, भले ही दलितों के हिंदू होने पर यह कह कर सवाल उठाएं कि दलितों ने तो बाबा साहब के नेतृत्व में बौद्ध धर्म ग्रहण कर लिया था और भले ही यह कह कर सफाई दें कि उनका वोट बैंक जस का तस है, लेकिन यह तय है कि मायावती के लिए आगे की राह बहुत आसान नहीं रह गई है. दलित मतदाताओं के बीच तो विश्वास का संकट कायम है. मुस्लिम मतदाताओं के लिए वे खुद कह रही हैं कि वे पहले गलती करते हैं फिर पछताते हैं और ऐसी ही कुछ धारणा अपर कास्ट के बारे में भी उनकी है कि वे भी वोट देते वक्त बहक जाते है. इसलिए अगले विधानसभा चुनाव उनके लिए अग्नि परीक्षा होने जा रहे हैं. मायावती किस तरह की तैयारी करके अपनी आगे की राह बनाती हंै, यही बात उनका भविष्य तय करेगी.

लोकसभा चुनाव में 31 सीटों पर दूसरे नंबर पर रही  सपा और 34 सीटों पर नंबर दो रही बहुजन समाज पार्टी दोनों के लिए ही भाजपा की एकतरफा जीत एक बड़ी आफत बनने जा रही है. यह तय है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा के अगले चुनाव में सत्ता के दो नए दावेदार भी सामने आ सकते हैं. लोकसभा चुनाव के नतीजे संकेत हैं कि सपा और बसपा दोनों के लिए ही उत्तर प्रदेश की सूबेदारी के दिन अब लदने जा रहे हैं. अगर मोदी सरकार जन अपेक्षाओं के अनुरूप कार्य करती रही तो उत्तर प्रदेश में भाजपा सत्ता की दावेदार होगी और अगर मोदी सरकार असफल सरकार साबित हुई तो सत्ता विरोधी लहर के तहत कांग्रेस पुर्नजीवित होकर उत्तर प्रदेश की सत्ता की दावेदार होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here