एसएफएफ भारत-चीन युद्ध

1
2047

1970-80 का दशक आते-आते चीन के साथ संबंधों में सुधार होने के साथ ही एसएफएफ की वह जरूरत नहीं रह गई जिसके लिए इसका गठन किया गया था. बाद के सालों में इसके जवानों को आतंकवाद निरोधी बल के रूप में प्रशिक्षित किया जाने लगा और ये ऑपरेशन ब्लू स्टार से लेकर कारगिल की लड़ाई तक भारतीय सैन्य रणनीति में महत्वपूर्ण साबित हुए. आज एसएफएफ भारत के सबसे प्रमुख आतंकवाद विरोधी बलों में माना जाता है. हालांकि अभी-भी इस बल के जवानों को विशेषरूप से छापामार युद्ध की ट्रेनिंग दी जाती है और यह रॉ की एक शाखा के रूप में ही काम करता है.

[email protected]

1 COMMENT

  1. एसएफएफ के बारे में बहुत अच्छी जानकारी…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here