कूड़ेदान में आंखें

मध्यप्रदेश, राज्यवार A- A+

दान की आंखें कूड़ेदान में

मध्य प्रदेश के ग्वालियर स्थित सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में दान में मिली आंखों के कूड़ेदान में मिलने से प्रबंधन सवालों के घेरे में है

नेत्रकोष की वैधता सवालों के घेरे में

अस्पताल का नेत्र विभाग भले ही लाख दावे करे कि उसका नेत्रकोष ह्यूमन ऑर्गन ट्रांसप्लांट एक्ट, 1994 के तहत पंजीकृत है, लेकिन सच ये है कि नेत्रकोष का रजिस्ट्रेशन वर्ष 2013 में कराया गया. इससे पहले यह दशकों तक अवैध रूप से चलाया जाता है. इसकी पुष्टि एनपीसीबी का ‘परिशिष्ट 21’ करता है. इसमें दिए देशभर के नेत्रकोषों की सूची में इसका नाम नहीं है. इससे पता चलता है कि सभी दिशा-निर्देशों को ताक पर रखकर जयारोग्य अस्पताल का नेत्र विभाग वर्षों तक अवैध रूप से आई बैंक संचालित करता रहा.

नेत्र दान से मोहभंग

मामले में कितनी सच्चाई है इस बारे में तो अभी कुछ कहा नहीं जा सकता, लेकिन इसका असर ये हुआ है कि लोगों का नेत्रदान के प्रति मोहभंग हो गया है. लोगों का कहना है कि भले ही यह डॉक्टरों के खिलाफ कोई साजिश हो लेकिन आंखें तो फेंकी ही गई हैं न. सबसे अहम ये है कि लोग नेत्रदान को लेकर असमंजस में हैं. आंखें दान कर चुके एक परिवार के सदस्य सुरेश जैन कहते हैं, ‘साहब क्या होगा? सब बड़े लोग ही तो हैं कुछ नहीं बिगड़ेगा उनका. व्यापमं का ही उदाहरण ले लीजिए. जो असली गुनहगार हैं वो बच निकलेंगे और फंसेगा कोई लिसी पीटर जैसा ओटी इंचार्ज. जांच चलती रहेगी पर हमारी भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाले को क्या कोई सजा मिल पाएगी? ये व्यवस्था अंदर तक खोखली है.’

eye 2
व्यथा कथा : 1
मुझे चार माह का गर्भ था, जब मेरे पति का देहांत हुआ, उनकी आखिरी इच्छा थी नेत्रदानread

eye 3
व्यथा कथा : 2
मैंने मां की आंखें दान की थीं  लेकिन लिस्ट में हमारा नाम नहींread

eye 5
व्यथा कथा : 3
नेत्रदान तो दूर, लोग रक्तदान से पहले भी लाख बार सोचेंगे…read

 

 

Pages: 1 2 Single Page
Type Comments in Indian languages