उत्तराखंड Archives | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
जिंदल को जमीन, जनता पर जुल्म

उत्तराखंड में अल्मोड़ा और रानीखेत के बीच स्थित डीडा द्वारसो ग्रामसभा के नैनीसार गांव के ग्रामीणों को एक दिन पता चलता है कि उनकी जमीन पर डीएस जिंदल समूह एक अंतर्राष्ट्रीय स्कूल बना रहा है. गांव वालों को हैरानी होती है. न कोई अधिग्रहण, न कोई कानूनी प्रक्रिया, न कोई  

जोन बड़ी है जहमत

उत्तराखंड में बन रहा नया ईको सेंसटिव जोन तमाम अच्छी-बुरी वजहों से चर्चा में है. लंबे समय बाद सत्ताधारी कांग्रेस व विपक्षी दल भाजपा किसी बात पर एकजुट हुए हैं और वह है इस जोन का विरोध  

बड़ा इम्तिहान

विधानसभा उपचुनाव में उत्तराखंड के मुखिया हरीश रावत के सामने अपनी सीट के अलावा बाकी दो सीटें भी पार्टी की झोली में डालने की बड़ी चुनौती है.  

चुनावी रण के समीकरण

उत्तराखंड में सत्ताधारी कांग्रेस को जहां बीते साल की भयंकर आपदा से उपजा रोष परेशान कर रहा है वहीं राज्य की सभी लोकसभा सीटों पर जीत तय मानकर चल रही भाजपा को आखिरी वक्त में बदले कुछ समीकरणों ने परेशान कर दिया है  

अभिशप्त लोकायुक्त

चुनावी राजनीति के चलते अस्तित्व में आए उत्तराखंड लोकायुक्त अधिनियम की राह में राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद भी सौ अड़चनें हैं.  

रीढ पर चोट

उत्तराखंड में आई हालिया प्राकृतिक आपदा ने प्रदेश की रीढ़ माने जाने वाले पर्यटन उद्योग पर बड़ी चोट की है जिससे हजारों लोगों के सामने आजीविका का संकट खड़ा हो गया है. प्रदीप सती की रिपोर्ट.  

आपदाग्रस्त आपदा प्रबंधन

देश में जब भी कोई आपदा आए तो सेना ही काम आती है. तो फिर हर साल सैकड़ों करोड़ रुपये खर्च करने वाला राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण किसलिए है? राहुल कोटियाल और मनोज रावत की रिपोर्ट.  

विपदा और विडंबना
by

आपदा अपने आने से पहले शोर तो नहीं मचाती लेकिन आहट जरूर देती है. इसे सुनने के लिए जो राजनीतिक और प्रशासनिक गंभीरता चाहिए वह उत्तराखंड में गायब दिखी, इसलिए नुकसान के आंकड़े असाधारण हो गए. मनोज रावत की रिपोर्ट.  

मुखिया से खुली बगावत

केंद्रीय मंत्री हरीश रावत सहित उनके खेमे वाले विधायकों और मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के नाटकीय बयानों के बीच उत्तराखंड कांग्रेस की गुटबाजी खुले में आ गई है. मनोज रावत की रिपोर्ट.  

इश्वर की अनाथ संतानें

पर्यटन और धार्मिक आस्था का केंद्र चार धाम यात्रा जिन सफाई कर्मचारियों की कड़ी मेहनत से आसान होती है उनकी सुध लेने वाला कोई नहीं. मनोज रावत रावत की रिपोर्ट.