उत्तर प्रदेश Archives | Page 3 of 4 | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
जातिवाद का विषविद्यालय!

बीएचयू में दलित उत्पीड़न से जुड़ा एक विवाद अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष पीएल पुनिया को सवालों के घेरे में खड़ा कर रहा है. अतुल चौरसिया की रिपोर्ट.  

वादे हैं वादों का क्या

चुनाव आते ही गांधी परिवार के निर्वाचन क्षेत्र रायबरेली और अमेठी के लिए योजनाओं के एलान की झड़ी लग जाती है. यह अलग बात है कि चुनाव जाते ही ज्यादातर योजनाएं ठंडे बस्ते में चली जाती हैं. जय प्रकाश त्रिपाठी की रिपोर्ट.  

यूपी वाया गुजरात

ऐसा क्या हुआ कि कांग्रेस और भाजपा, दोनों को 2014 की लड़ाई के लिए उत्तर प्रदेश की कमान गुजरात के नेताओं को सौंपनी पड़ी. जयप्रकाश त्रिपाठी की रिपोर्ट.  

आपदा का खनन

उत्तराखंड जैसी आपदा से सहारनपुर कोई सबक लेने को तैयार नहीं. यहां प्रभावशाली लोगों की छत्रछाया में खुलेआम अवैध खनन का खतरनाक खेल खेला जा रहा है. राहुल कोटियाल की रिपोर्ट.  

मौत पर सियासत

एक तरफ कथित आतंकी खालिद मुजाहिद की पुलिस हिरासत में हुई मौत से उपजे सवाल अनसुलझे हैं तो दूसरी ओर इस मौत से राजनीतिक फायदा उठाने की होड़ लग गई है. जयप्रकाश त्रिपाठी की रिपोर्ट.  

उत्तर प्रदेश: एक शहर का कहर

कहीं कब्रिस्तान और श्मशान पर कब्जा तो कहीं तालाब पाटकर बनती बहुमंजिला इमारतें. कहीं फर्जी रजिस्ट्री तो कहीं बिना मुआवजा दिए ही जमीन का अधिग्रहण. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक हाईटेक टाउनशिप की आड़ में हो रही इन कारगुजारियों से परेशान हजारों किसानों की फरियाद सुनने वाला कोई नहीं. जयप्रकाश त्रिपाठी की रिपोर्ट.  

बेकाबू बेनी बाबू

बात-बेबात कुछ भी कह जाने वाले केंद्रीय इस्पात मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ऐसा कैसे करते रह सकते हैं? बृजेश सिंह की रिपोर्ट  

रिश्तेदारों और दागियों के सहारे

2014 के लोकसभा चुनावों की जंग के लिए बसपा उत्तर प्रदेश में वही दांव आजमाने की तैयारी में है जिससे परहेज करने का वह बार-बार दावा कर रही है. जयप्रकाश त्रिपाठी की रिपोर्ट  

देस हुआ बेगाना

पांच दशक पहले बांग्लादेश में अपना सब कुछ छोड़कर भारत आए लाखों लोगों को देश में अलग-अलग जगहों पर बसाया गया था. आज तक ये शरणार्थी नागरिकता और बुनियादी सुविधाओं को तरस रहे हैं. जयप्रकाश त्रिपाठी की रिपोर्ट.  

कैद में बुढ़ापा

उत्तर प्रदेश की जेलों में बड़ी संख्या में बुजुर्ग कैदियों की मौजूदगी  जेलों और इन कैदियों दोनों को भारी पड़ रही है. एक ओर जहां क्षमता से अधिक कैदियों की मौजूदगी से जेलें प्रभावित हो रही हैं वहीं ये उम्रदराज कैदी महज इसलिए सलाखों के पीछे दिन काट रहे हैं