शोभन सरकार

0
905

खबरों के मुताबिक डौंडिया खेड़ा के राजा  राव राम बख्श सिंह ने खुद बाबा के सपने में आकर स्थान विशेष पर 1000 टन सोना गड़ा होने की बात उन्हें बताई थी. राव राम बख्श सिंह को सन 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में हिस्सा लेने और ब्रिटिश सैनिकों को मारने के इल्जाम में अंग्रेजों ने फांसी पर लटका दिया था.

शोभन सरकार के करीबी ओम बाबा का भी एक आश्रम है जानकारी के मुताबिक वहां भी एक बार खजाने की तलाश में निजी स्तर पर खुदाई की जा चुकी है

सूत्रों के मुताबिक इस बार शोभन सरकार डौंडिया खेड़ा के साथ-साथ कानपुर के परेड व चौबेपुर गांव तथा फतेहपुर के आदमपुर गांव में भी खजाने की तलाश में खुदाई करवाना चाहते हैं. बाबा का कहना है कि परेड और चौबेपुर में जहां अरबों रुपये का खजाना गड़ा है वहीं आदमपुर में कम से कम 2,500 टन सोना निकलेगा. बाबा ने डौंडिया खेड़ा में 1,000 टन सोना निकलने का सपना देखा था.

इस वक्त शोभन सरकार कानपुर देहात के शिवली स्थित शोभन आश्रम से करीब 6-7 किलोमीटर दूर जादेपुर में देवी के एक मंदिर के जीर्णोद्धार के काम में लगे हुए हैं. उनकी सुबहें इस समय वहीं बीतती हैं जबकि शाम का समय वह अपने आश्रम में बिताते हैं. लोगों से मिलने-जुलने का उनका क्रम पूर्ववत जारी है. बाबा अपने करीबी लोगों के अलावा हर गुरुवार को आम लोगों से भी मुलाकात करते हैं. इस दौरान शक्ति (तकरीबन 27 वर्ष) नामक उनका निकटस्थ सहयोगी साये की तरह बाबा के साथ रहता है. उसे शोभन सरकार का सुरक्षा प्रभारी भी कहा जा सकता है क्योंकि उनसे मिलने वाले हर व्यक्ति को सुरक्षा जांच से गुजरना होता है जिसकी जिम्मेदारी शक्ति के पास ही है.

बाबा के सलाहकारों में सबसे बड़ा ओहदा ओम बाबा का है. डोंडिया खेड़ा खुदाई प्रकरण के दौरान बाबा के तमाम बयान खुद ओम बाबा जारी करते थे. ओम बाबा का पूरा नाम ओम अवस्थी है. युवावस्था में वह जिला स्तर पर कांग्रेस के नेता रह चुके हैं. आपातकाल के बाद कांग्रेस की पराजय के बाद ओम बाबा ने शपथ ली थी कि वह कांग्रेस की जीत होने तक आधे वस्त्र ही धारण करेंगे. उसके बाद से कांग्रेस तो कई बार हारी और जीती लेकिन ओम बाबा ने अपने आधे वस्त्र धारण करना जारी रखा. ओम बाबा की कई बड़े कांग्रेस नेताओं से नजदीकी है. चित्रकूट में ओम बाबा का एक आश्रम भी है जो 70 बीघे में फैला हुआ है. जानकारी के मुताबिक वहां भी एक बार खजाने की तलाश में निजी स्तर पर खुदाई की जा चुकी है हालांकि वहां भी कोई खजाना नहीं निकला. ओम बाबा उस खुदाई से इनकार करते हुए कहते हैं कि वहां ऊबड़-खाबड़ जमीन को समतल किया गया था.

बाबा लगातार मोदी सरकार के मंत्रियों के साथ संपर्क में हैं ताकि मोदी सरकार डोंडिया खेड़ा में नए सिरे से खुदाई करवाए

शोभन सरकार के इर्दगिर्द रहस्य का गहरा आवरण है. उनसे मिलने जुलने वालों का दायरा बहुत सीमित है तथा उनकी तस्वीर उतारने की भी इजाजत नहीं है. उनके परिचय के बारे में उनके करीबी लोग यही कहकर बच निकलते हैं कि संतों का कोई नाम या घर नहीं होता. बाबा के सर्वाधिक करीबी लोगों की बात करें तो उनमें उनके सुरक्षा प्रभारी शक्ति और प्रवक्ता ओम बाबा के अलावा मोनू शुक्ला, रामू, श्री चरण शुक्ला आदि शामिल हैं.

शोभन आश्रम की बात करें तो कानपुर देहात में शिवली के निकट स्थित यह भव्य आश्रम करीब 90 वर्ष पुराना है. उस वक्त यहां जंगल हुआ करता था. स्वामी रघुनंदन दास महाराज ने शिवली के निकट शोभन आश्रम की नींव रखी थी. शोभन गांव में जन्मे रघुनंदन दास ने 15 वर्ष की आयु में वैराग्य ले लिया था. करीब 40 साल पहले स्वामी रघुनदंन दास का देहांत हो गया. उसके बाद पास में स्थित शुक्लनपुरवा में पं. कैलाश नाथ तिवारी के घर जन्मे परमहंस स्वामी विरक्तानंद जी महाराज (वर्तमान शोभन सरकार) मंधना स्थित ब्रह्मावर्त कॉलेज से इंटरमीडिएट तक शिक्षा ग्रहण करने के पश्चात वैराग्य लेकर यहां आ गए थे. अब यही इस आश्रम के महंत हैं. शोभन सरकार ने आश्रम के पास करीब 100 बीघे भूमि पर एक झील और पांडु नदी से पंप से सिंचाई की व्यवस्था भी कराई है जिससे आसपास के गांवों के किसानों के खेतों की सिंचाई की जाती है. शोभन सरकार शिवली क्षेत्र के जुगराजपुर, गौरी तथा निगोहा गांव के पास पांडु नदी में पुल बनवाकर सरकार को सौंप चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here