हिमाचल के नेर चौक में ५ ज़िंदा जले

विवाह के वाद रिसेप्शन की हो रही तैयारी, उससे कुछ घंटे पहले ही हो गया हादसा

0
1054

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के नेर चौक कस्बे में सोमवार सुबह एक घर में आग लगने से एक ही परिवार के पांच सदस्य जिंदा जल गए। यह घटना सुबह करीब 4 बजे की बताई गयी है। जिस घर में आग लगी वहां शादी समारोह चल रहा था और रिश्तेदार दुल्हन को लेकर घर पहुंचे थे। सोमवार दोपहर इस घर में रिसेप्शन का कार्यक्रम होना था, लेकिन उससे पहले ही मातम छा गया। आगजनी की इस घटना को लेकर मंडी के डीसी ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक घर के सभी सदस्य बारात वापस लेकर आराम कर रहे थे तभी घर में अचानक आग की लपटें उठनी शुरू हो गईं। देखते ही देखते पूरा घर राख के ढेर में तब्दील हो गया। आगजनी के दौरान घर में रखे सिलेंडर में भी ब्लास्ट हुआ जिससे आग ज्यादा भड़क गई। पुलिस ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि हादसे में ५ लोग जिन्दा जल गए हैं।

आग की खबर फैलते ही आस पास के लोगों ने अपने स्तर पर आग पर काबू पाने की पूरी कोशिश की और फायर ब्रिगेड सहित पुलिस को इसकी सूचना दी। लोगों का ने आरोप है कि फायर ब्रिगेड की गाड़ियां घटनास्थल पर काफी देर से पहुंची जिस कारण पूरा घर जलकर राख हो गया। आगजनी की इस घटना में परिवार के पांच सदस्यों की मौत हो गई है।

मिली जानकारी के मुताबिक मृतकों में नरेंद्र कुमार सोनी (६६), बीना सोनी (६०), सुदेश सोहल (७५), मोना (४५) और साहिल (८) शामिल हैं। यह दो परिवारों के सदस्य बताए जा रहे हैं। जिस घर में आग लगी वो घर नरेंद्र कुमार सोनी का था और इनके साथ लगते घर में छोटे भाई के बेटे की शादी समारोह चला हुआ था।

वहीं, प्रशासन ने सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए जोनल हास्पिटल मंडी भेज दिया है। इस हादसे के दौरान प्रभावित परिवार का गुस्सा उन लोगों पर भी फूटा जो इनके वीडियो और फोटो बना रहे थे। इस कारण मीडिया को भी कवरेज नहीं करने दी गई।

जांच का जिम्मा एडीएम मंडी को सौंपा है। उन्हें एक सप्ताह में रिपोर्ट सौंपने को कहा है। उन्होंने कहा कि पूरे हादसे को गहनता से जांच होगी। इसके अलावा फायर ब्रिगेड के देरी से आने के आरोप की भी जांच की जाएगी।

सूचना मिलते ही स्थानीय विधायक इंद्र सिंह गांधी, पूर्व मंत्री प्रकाश चौधरी और डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर घटनास्थल पर पहुंचे। डीसी मंडी ने पीड़ित परिजनों से मुलाकात की और ढांढस बंधाया। परिजनों ने भी डीसी को फायर ब्रिगेड की लेटलतीफी के बारे में बताया। डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर ने घटना पर दुख जताते हुए कहा कि इस पूरे मामले की जांच करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि फायर ब्रिगेड देरी से क्यों आई इसकी भी जांच करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रशासन की तरफ से प्रभावित परिवारों को हर संभव मदद मुहैया करवाई जाएगी। प्रारंभिक दृष्टि में आगजनी का कारण शॉर्ट सर्किट माना जा रहा है।