‘‘हमने देसी किसान पार्टी बनाई है, लेकिन हम पक्के भाजपाई हैं…’’

0
478

आप अब क्या ताकत दिखायेंगे? आपकी या आपके संगठन की पहचान एक जाति विशेष भूमिहारों से जुड़ी रही है और भूमिहार भाजपा के पाले में जा चुके हैं.
हमारी पार्टी किसी जाति विशेष के लिए नहीं है. हमारे लिए सिर्फ दो ही जाति है. एक भूधारी किसानों की और दूसरी जाति भूमिहीन किसानों की. हम दोनों के मसले को लेकर राजनीति करेंगे. मजदूरों को रोजाना पांच सौ रुपये मेहनाताना मिले, इसकी कोशिश करेंगे. किसानों के संबंध में अपने पिताजी के बनाये सिद्धांतों पर चलेंगे.

पिताजी के सिद्धांतों पर चलेंगे तो रणवीर सेना की छाया भी आप पर रहेगी. नरसंहारों का एक लंबा इतिहास भी साथ रहेगा. उस पहचान के साथ चुनाव लड़ेंगे?
मैं विशुद्ध रूप से राजनीति करने आया हूं. मेरा उन घटनाओं से कोई लेना-देना न था, न है. आप देसी किसान पार्टी बनाकर चुनाव लड़ रहे हैं और अभी भी भोजपुर समेत कई इलाकों में रणवीर सेना के नाम का इस्तेमाल कर बहुत कुछ हो रहा है. हां हमें भी सूचनाएं हैं लेकिन हम तो कभी उससे संबद्ध थे ही नहीं. लेकिन एक और बात है. रही बात किसी घटना की तो वह परिस्थितियों से उभरती है. सरकार को भी इस पर अपना रवैया और नजरिया साफ रखना होगा. एक मामले में आप सुप्रीम कोर्ट तक जायेंगे, दूसरे में चुप्पी साधे रहेंगे तो इसका भी असर पड़ता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here