सत्ता में आये तो तीन तलाक क़ानून ख़त्म : कांग्रेस

राहुल : २०१९ के चुनाव में हार जायेंगे मोदी और संघ

0
788

एक बड़े ऐलान में कांग्रेस ने गुरूवार को कहा कि लोक सभा चुनाव के बाद सत्ता में आने पर वह तीन तलाक क़ानून को ख़तम कर देगी। इसका ऐलान कांग्रेस अल्पसंख्यक सम्मेलन में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव ने किया। 
सुष्मिता ने कहा कि हम तीन तलाक के समर्थन में नहीं लेकिन इसे जिस तरीके से भाजपा लाई है उसमें मुस्लिम पुरुषों को जेल में भेजने की साजिश है। कहा – ”हमारी सरकार बनेगी तो हम तीन तलाक कानून खत्म कर देंगे। ये कानून मुस्लिम पुरुषों को जेल में भेजने की साजिश है।”

इस सम्मलेन ने अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर हमले किये। गांधी ने गुरूवार को दिल्ली में कांग्रेस अल्पसंख्यक सम्मलेन में किया। दिसंबर में ही लोक सभा में इससे जुड़ा बिल पास हुआ था, हालांकि राज्य सभा से इसे अभी मंजूरी नहीं मिली है।

उन्होंने कहा – ”इस चुनाव में आरएसएस और मोदी हारने जा रहे हैं। वे हर संस्थान पर आक्रमण करते हैं। वे सोचते हैं देश नीचे है और हम ऊपर हैं।  तीन महीने में देश इन्हें समझाने जा रहा है कि देश ऊपर है और आप नीचे हैं।” राहुल ने कहा कि अब कांग्रेस फ्रंट फुट पर खेलने जा रही है। और जनता और हमारे कार्यकर्ता मोदी को सत्ता से बाहर कर देंगे। कहा आज मोदी खुल के बोल नहीं सकते। कांग्रेस ने उन्हें चुप करवाया है।

राहुल ने कहा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह इस देश को एक ”प्रॉडक्ट” मानते हैं। कहा कि मोदी के चेहरे पर घबराहट है। यह साफ़ देखी जा सकती है। कहा कि मनमोहन सरकार में मंत्री फैसले लेते थे अब सिर्फ एक व्यक्ति देश को चला रहा है। नोटबांडी से लेकर जीएसटी उस एक ही व्यक्ति के फैसले हैं जिन्होंने देश को बर्बाद कर दिया। 

जब यह बिल लोक सभा में पास हुआ था तब इसके पक्ष में २४५ और विरोध में ११ वोट पड़े थे। राज्यसभा में इसे अभी सरकार पास नहीं करवा पाई है। इस रैली में राहुल ने पीएम मोदी पर सीधे सीधे आरोप लगाए और वहां मौजूद लोगों से – चौकीदार चोर है – के नारे भी लगवाए।
चुनाव से पहले कांग्रेस के इस ऐलान को बहुत बड़ा ऐलान माना जा रहा है। राहुल ने कहा कि यह देश सबका है लेकिन मोदी सरकार ऐसा नहीं मानती।  और वो लोगों को आपस में बाँट कर रही है जिससे देश में बिखराव का माहौल है।

कांग्रेस के अलावा विपक्षी पार्टियों के विरोध के चलते लंबे अरसे से अटका तीन तलाक विधेयक लोकसभा से पास हो गया था लेकिन  भाजपा का बहुमत न होने से यह वहां अटका पड़ा है। भाजपा भी इस विधेयक को राजनीतिक मुद्दे के रूप में इस्तेमाल करती रही है।

राहुल ने सम्मलेन में कहा कि आरएसएस देश के संबिधान को कल्हातम कर देना चाहती है और मोदी सरकार आरएसएस की कठपुतली है। आरएसएस चाहती है कि परदे के पीछे से मोहन भागवत जी चलाएं।