विपक्षी एकजुटता की कोशिशें तेज, नीतीश कल लालू यादव के साथ सोनिया से मिलेंगे

मालूम पड़ा है कि नीतीश कुमार 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले ही विपक्ष के गठबंधन को अंतिम रूप देना चाहते हैं ताकि बीच में पड़ने वाले विधानसभा चुनावों में साथ जाकर इसका प्रभाव आंका जा सके। वृहद विपक्षी गठबंधन बनाने के यह कवायद तब हो रही जब कांग्रेस भारत जोड़ो यात्रा निकाल रही है और उसके अध्यक्ष पद के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

अभी यह मालुम नहीं है कि नीतीश क्या बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी से इस सिलसिले में मिलेंगे। ममता हाल तक विपक्ष की एकता की बातें करती रही हैं। लेकिन पिछले दो महीने से उन्होंने इस दिशा में कुछ सक्रियता नहीं दिखाई है। हाल में उन्होंने आरएसएस और पीएम की तारीफ़ की थी जिसके बाद उन्हें लेकर राजनीतिक हलकों में कयास भी लगते रहे हैं।

नीतेश ने कुछ हफ्ते पहले भी दिल्ली की यात्रा की थी और तमाम बड़े विपक्षी नेताओं राष्ट्रवादी कांग्रेस के शरद पवार, सपा प्रमुख अखिलेश यादव और मुलायम यादव, सीपीएम के सीताराम येचुरी, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल आदि से मिले थे। अब सोनिया गांधी से उनकी मुलाकात पर विपक्ष सहित भाजपा की भी नजर है।