विधानसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश की सियासत में हलचल

महगांई , बेरोजगारी और डीजल –पैट्रोल के बढ़ते दामों के साथ –साथ किसान का उग्र प्रदर्शन इन्ही तामाम मुद्दों को लेकर कांग्रेस ,बसपा, सपा और आप पार्टी ताल ठोंक सकती है। और भाजपा को चुनाव मैदान में पटकनी देने की कोशिश कर सकती है।

उत्तर प्रदेश के कांग्रेस के नेता रामबहादुर ने बताया कि अगर विपक्षी दल इसी आधार पर ही चुनाव लड़े कि भाजपा को सत्ता से बेदखल करना है। तो आपसी सहमति जरूरी है।वैसे मौजूदा वक्त में उत्तर प्रदेश की सियासत में बदलाव के मोड़ पर है। बस जरूरी है नेताओं को जनता के बीच जाने की है।