लखीमपुर घटना के आरोपी आशीष मिश्रा के पेश होने के बाद सिद्धू ने ख़त्म किया अपना अनशन

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सिद्धू ने करीब आधा घंटा रमन की पत्नी, माता-पिता और भाइयों से बात की और घटना और तमाम हालात की जानकारी ली। उन्होंने परिजनों को सांत्वना दी और मदद का भरोसा भी दिलाया। इसके तुरंत बाद जैसे ही सिद्धू दिवंगत पत्रकार के घर से बाहर निकले वो वहीं एक वहीं टिनशेड के नीचे पड़े फट्टे (तख्ते) पर धरना देकर बैठ गए और बाद में मूंदकर लेट गए।

इससे पहले उन्होंने घोषणा की कि जब तक तिकुनिया मामले में गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के इस्तीफे और उनके बेटे आशीष मिश्र की गिरफ्तारी होने तक वे मौन अनशन कर बैठे रहेंगे। उनके इस ऐलान से अफसरों के हाथ-पैर फूल गए और वहां उपस्थित लखनऊ के आईपीएस अफसर सुनील कुमार सिंह, गोला एसडीएम अखिलेश यादव और निघासन एसडीएम ओमप्रकाश गुप्ता सिद्धू को मनाने की पूरी कोशिश के लेकिन वो नहीं माने। सिद्धू तख्त पर लेट गए जिसके बाद दिवंगत पत्रकार के परिजनों ने वहां एक चद्दर बिछा दी और पंखा लगा दिया।