रूस ने यूक्रेन के दो विद्रोही क्षेत्रों को दी स्वतंत्र मान्यता, अमेरिका ने लगाई पाबंदियां

रिपोर्ट्स के मुताबिक यूक्रेन के अपने समर्थित दो अलगाववादी क्षेत्रों (राज्यों) को मान्यता देने के बाद राष्ट्रपति पुतिन ने अपने सैनिकों को दो अलग-अलग क्षेत्रों में शांति बनाए रखने का आदेश दिया है। इसके मायने यह हैं कि यदि वहां यूक्रेन सरकार के सैनिक कुछ करने की कोशिश करते हैं तो उसे दबा दिया जाए। हालांकि, अंतर्राष्ट्रीय मामलों के जानकार मान रहे हैं कि दो राज्यों को अलग देश के रूप में मान्यता देने से रूस के लिए यूक्रेन पर हमला और आसान हो गया है।

इस सारे घटनाक्रम पर भारत भी सधी हुई रणनीति पर काम कर रहा है। यूक्रेन संकट पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक से खुद को अलग कर भारत ने  सलाह दी है कि सभी पक्षों को संयम बरतना चाहिए।

भले जापान और ब्रिटेन, यूक्रेन संकट पर अमेरिका के साथ दिख रहे हैं, फ्रांस और जर्मनी निष्पक्ष रास्ते पर चलते दिख रहे हैं। यूरोपियन यूनियन ज़रूर क्रेमलिन के खिलाफ कार्रवाई का पक्षधर है।  वैसे ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने हाल के दिनों में रूस के खिलाफ बहुत कम बोला है। इस सारे घटनाक्रम में रूस के राष्ट्रपति पुतिन अमेरिकी के अपने समकक्ष जो बाइडेन पर भारी पड़ते दिख रहे हैं। पुतिन ने बिना सेना का  इस्तेमाल किये अब तक यूक्रेन को जबरदस्त दबाव में ला दिया है।