मोहभंग की ओर

क्रिकेट की लोकप्रियता कम हो रही है, यह सिर्फ खेल विशेषज्ञ या चंद घटनाएं ही नहीं कह रहीं. बल्कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद भी इसे मानती है. 2011 में आईसीसी के एक अध्ययन की रिपोर्ट में यह बात साफ शब्दों में कही गई थी कि भारत में क्रिकेट की लोकप्रियता लगातार घट रही है, खासकर वनडे और टेस्ट क्रिकेट को लोकप्रिय बनाए रखने के लिए खास कोशिशों की जरूरत है. यह सच है कि टी-ट्वेंटी के तमाशे वाले इस दौर में टेस्ट और वनडे के दर्शक सबसे ज्यादा कम हुए हैं. लेकिन गहरी बात यह है कि टी-ट्वेंटी की लोकप्रियता भी लगातार गिर रही है.

खासकर आईपीएल की. टैम के मुताबिक आईपीएल की टीआरपी लगातार कम होती जा रही है. 2008 में पहले आईपीएल की टीआरपी सबसे ज्यादा 5.59 रही थी तो पिछले यानी आईपीएल-5 और हाल ही में समाप्त हुए आईपीएल-6 की टीआरपी सबसे कम क्रमश: 3.9 और 3.8 रही. आईपीएल-6 के पहले हफ्ते की टीआरपी 3.8 थी जो कि आपीएल पांच की पहले हफ्ते की टीआरपी से एक अंक कम थी. आईपीएल-5 के ओपनिंग मैच की टीआरपी 5.5 थी जो कि आईपीएल-6 के ओपनिंग मैच में घटकर सिर्फ 4.1 रह गई. टीआरपी के इन आंकड़ों से अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि आईपीएल की लोकप्रियता लगातार घट रही है. वह भी तब जबकि यह क्रिकेट का सबसे तेज़ मायावी और चमकीला स्वरूप है. निश्चित तौर पर लोगों का धर्म और उसके खुदाओं पर से भरोसा उठ रहा है.

-हिमांशु बाजपेयी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here