मोदी सरकार सवर्णों को नौकरी में १० फीसदी आरक्षण देगी

१९९१ में कांग्रेस सरकार ने भी दिया था, सुप्रीम कोर्ट ने किया था खारिज

0
602
आज से २७ साल पहले कांग्रेस की नरसिम्हा राव सरकार की तरह नरेंद्र मोदी की सरकार ने सोमवार को लोक सभा चुनाव में अपनी ज़मीन पक्की करने के इरादे से आर्थिक रूप से कमजोर स्वर्णों को सरकारी नौकरियों में १० फीसदी आरक्षण का फैसला किया है। याद रहे १९९१ में नरसिंम्हा  भी ऐसा ही फैसला किया था लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया था और कहा था कि गरीबी आरक्षण का आधार नहीं हो सकती।
सोमवार को मंत्रिमंडल ने एक बैठक में गरीब स्वर्णों को यह आरक्षण सरकारी नौकरी में देने को मंजूरी दी। पिछले साल मोदी सरकार ने एससी/एसटी एक्ट में जो संशोधन किया था उससे स्वर्णों में नाराजगी मानी जा रही है।
भाजपा तीन राज्यों में चुनाव हरने के बाद वैसे हे बैकफुट पर दिख रही है लिहाजा उसने अब स्वर्णों को यह आरक्षण देने की तुरुप चली है। देखना होगा कि  कानूनी रूप से क्या पक्ष सामने आता है।
एससी/एसटी एक्ट में संशोधन के बाद देश के कई हिस्सों में सवर्णों ने इसका विरोध करने के लिए प्रदर्शन किये थे।  भाजपा महसूस कर रही है कि इससे स्वर्णों में उसके प्रति नाराजगी फ़ैली है। दलित  पिछड़े वर्ग वैसे  से नाराज दिख रहे हैं। लिहाजा मोदी सरकार ने अब स्वर्णों को नौकरियों में १० फीसदी फीसदी आरक्षण का दांव चला है।