मुलायम सिंह यादव: भभकती भट्टी

1
815

उत्तर प्रदेश की सत्ता के शीर्ष पर पहुंचने और लोक- सभा चुनाव में लगभग आधी सीटें जीतने के बावजूद दिल्ली की गद्दी हाथ से फिसल जाने के गम ने सपा कार्यकर्ताओं को एक बार फिर बेलगाम करना शुरू कर दिया. 2007 के विधानसभा चुनाव में इसका असर भी दिखा और सपा सत्ता से बाहर हो गई. मुलायम की प्रबल विरोधी मायावती पहली बार अपने दम पर उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनीं. समाजवादी पार्टी के लिए बुरा वक्त यहीं नहीं थमा. 2009 के लोकसभा चुनाव में भी सपा को भारी नुकसान हुआ. पार्टी 22 सीटों पर सिमट गई. मगर मुलायम सिंह ने इस हार से भी हार नहीं मानी और खुद को पूरी तरह केंद्रीय राजनीति में व्यस्त रखने का निर्णय किया. यूपी को उन्होंने नेता प्रतिपक्ष के रूप में अपने भाई शिवपाल यादव के जिम्मे छोड़ दिया. इस दौर में उन्होंने कई अटपटे फैसले लिए जिनमें कल्याण सिंह को पार्टी में शामिल करना भी एक था. उन्हंे आजम खां जैसे विश्वस्त साथी का साथ छोड़ना पड़ा और जनेश्वर मिश्र, लक्ष्मीकांत वर्मा तथा रामशरणदास जैसे समाजवादी साथी भी अपनी पारी खेल कर हमेशा के लिए उनसे विदा हो गए. लेकिन लगातार झटकों पर झटके झेलते रहने के बावजूद मुलायम अपनी रणनीति में डटे रहे. यूपी में पार्टी की बागडोर अपने युवा पुत्र अखिलेश के हाथ सौंप कर उन्होंने फिर एक बड़ा दांव खेला. पार्टी के अनेक नेता इसे पचा नहीं पाए, लेकिन 2012 के विधानसभा चुनाव ने साबित कर दिया कि मुलायम का दांव कितना सही था. और उप्र के इसी जनादेश के साथ मुलायम के ‘मिशन 2014’ की भी शुरुआत हो गई.

‘मिशन 2014’ का एक ही लक्ष्य है- मुलायम को देश का प्रधानमंत्री बनाना. ऐसा ही सपना 2007 के विधानसभा चुनाव के बाद मायावती ने देखा था. बसपा के हाथी को लाल किले पर पहुंचाने के लिए उन्होंने ने सर्वजन का नारा दिया, मगर उत्तर प्रदेश में सत्ता संभालते ही यह नारा ‘खास जन’ तक सीमित हो गया. पार्टी सर्वजन की पार्टी के बजाय ‘सर्वधन की पार्टी’ में बदल गई. जनता ने उन्हंे इसका जवाब भी जल्द ही दे दिया और 2009 के लोकसभा चुनावों के नतीजों ने मायावती का सपना तोड़ दिया. बसपा महज 20 सीटों पर अटकी रह गई.

2012 में जब उत्तर प्रदेश में अखिलेश की सरकार बनी थी तो यह समझा जा रहा था कि राजनीति के हर दांव को बारीकी से जानने-समझने वाले मुलायम सिंह यादव मायावती वाली भूल कतई नहीं दोहराएंगे . ‘मिशन 2014’ को पूरा करने के लिए यह पहली और अनिवार्य शर्त भी मानी जा रही थी, लेकिन अखिलेश के शपथ ग्रहण समारोह में ही मंच पर युवा पार्टी कार्यकर्ताओं ने जो उपद्रव किया उसने पूत के पांव पालने में ही दिखा दिए. सरकार के शुरुआती दिनों से ही कानून व्यवस्था को लेकर जो सवाल उठने लगे हुए थे अब तो उन पर ख्ुद मुलायम ने भी यह कह कर मोहर लगा दी है कि पार्टी कार्यकर्ताओं की गुंडई पार्टी और सरकार पर भारी पड़ रही है. इसी दबंगई के कारण मुलायम को अपनी पिछली सरकार भी गंवानी पड़ी थी. लेकिन इस बार दांव और बड़ा है. इस बार तो दांव लोकसभा चुनाव पर है. इसीलिए मुलायम बेताब भी हैं और कार्यकर्ताओं के तौर-तरीकों से बेहद परेशान भी.

कांग्रेस और यूपीए के साथ हवाओं का रुख दिखता नहीं. अगर बीजेपी की भी हवा नहीं बनती तो तीसरे या किसी अन्य मोर्चे की संभावनाएं बढ़ सकती हैं. सपा इससे भी राहत महसूस कर रही है कि आप के मैदान में उतरने से कांग्रेस और बीजेपी दोनों को ही नुकसान हो सकता है. हिंदी पट्टी में इन दोनों पार्टियों को होने वाली कोई भी संभावित हानि मुलायम के सपनों को और पंख लगा रही है. खुद मुलायम अलग-अलग क्षेत्रीय दलों के साथ बातचीत शुरू कर चुके हैं. बरेली की अपनी बड़ी चुनावी सभा में उन्होंने सभी 80 सीटों पर जीत हासिल करने के अपने लक्ष्य की सार्वजनिक घोषणा की थी. वे मोदी की दावेदारी को बार-बार चुनौती देते हुए कहते हैं, ‘मोदी कैसे प्रधानमंत्री बन सकते हैं. गुजरात में तो सिर्फ 26 सीटें है. प्रधानमंत्री तो यूपी से ही बनेगा जहां 80 सीट हैं.’ वास्तव में ऐसा कह कर मुलायम सिंह अपने कार्यकर्ताओं में यह भरोसा पैदा करना चाहते हैं कि मौजूदा दौर में मुलायम के प्रधानमंत्री बन जाने की पूरी-पूरी संभावनाएं हैं और जरा-सी कोशिश उनकी इस इच्छा को पूरी कर सकती है इसलिए वे कार्यकर्ताओं से फिर से साइकिल पर उतर आने का आह्वान करते हैं. लेकिन उनके कार्यकर्ताओं की गुंडई और पार्टी का चरित्र उनके सपने के आड़े आ रहा है. फिलहाल यही मुलायम की सबसे बड़ी चिंता है. मुजफ्फरनगर दंगों ने भी उनके गणित को काफी हद तक गड़बड़ा दिया है.

मुलायम के लिए इस बार का लोकसभा चुनाव ‘अब नहीं तो कभी नहीं’ वाली स्थिति है. एक तरफ राष्ट्रीय राजनीति की उथल-पुथल उनके सपनों को हरा -भरा बना रही है तो दूसरी ओर प्रदेश की जनता जिसके पास उनके सपने में असल रंग भरने की ताकत है, वह उनसे दूर होती दिखाई दे रही है. फिर भी मुलायम मानते हैं कि जीत के लिए सिर्फ अपनी कोशिशों के भरोसे नहीं रहा जाता. विरोधी की चूक भी कई बार जीत की वजह बन जाती है.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here