पहचान से परेशान

1
186

[box]‘जो दोषी हो उसे कठोर सजा दें, लेकिन पूरे इलाके को तो बदनाम न करें. फिर तो इलाके में मुसलमान होना और मुसलमानों का रहना ही गुनाह हो जाएगा!’[/box]

दरभंगा में कोई इस पर खुलकर बात करने को तैयार नहीं होता. कुछ लोग एक-एक कर बताते हैं कि कैसे 23 नवंबर, 2011 को सबसे पहले मधुबनी के सकरी गांव से कयूर जमाली को दिल्ली पुलिस के स्पेशल ब्रांच ने पकड़ा था और उसके बाद से यह सिलसिला ही चल निकला. बाद में बाढ़ समैला के कतील सिद्दीकी को पकड़ा गया और  फिर वहीं के गौहर अजीज खुमैनी को. इसके बाद जिले के ही चकजोहरा गांव के अब्दुल रहमान और फिर देवराबंधौली गांव के नकी और नदीम को पुलिस ने गिरफ्तार किया. फिर मधुबनी जिले में बलहा के मोहम्मद कमाल, उसके बाद दरभंगा शहर में ही 55 वर्षीय साइकिल मिस्त्री मोहम्मद कफील, फिर दरभंगा के रजौरा से अब्दुल्ला दिलकश और बाढ़ समैला से कफील अख्तर की गिरफ्तारी हुई. इसी दौरान सऊदी अरब से फसी महमूद को भारत लाया गया.

इनमें से ज्यादातर गरीब घरों के नौजवान हैं सो एक वर्ग आशंका जता रहा है कि उनका बहकना आसान रहा होगा, लेकिन कुछ गिरफ्तारियों पर सवाल उठ रहे हैं. एक तो 55 वर्षीय साइकिल मिस्त्री मोहम्मद कफील की ही है. कफील ने ही कथित रूप से इंडियन मुजाहिदीन के संस्थापक यासीन भटकल को दरभंगा में पनाह दी थी जो डॉ इमरान के नाम से दरभंगा में रहते हुए हकीम बनकर अपने नेटवर्क का विस्तार कर रहा था. स्थानीय पत्रकार और इलाके की गहरी समझ रखने वाले विजय पूछते हैं, ‘जब करोड़पति और सऊदी अरब में रहने वाला फसी महमूद भटकल का दायां हाथ माना जा रहा है और वह संस्थापकों में से एक था तो भला भटकल को एक साइकिल वाले के सौजन्य से गंदी बस्ती में रहने की जरूरत क्या थी? वह बाढ़ समैला गांव में मजे से रहकर भी अपना काम कर सकता था! चलिए, मान लिया कि पकड़े गये सारे आतंकवादी ही साबित होंगे लेकिन अपने देश में एक विदेशी आतंकवादी कसाब के पकड़े जाने पर सरकार मुकदमा लड़ने से लेकर तमाम तरह के इंतजाम करती है तो इस इलाके के जो नौजवान  पकड़कर ले जाए जाते रहे हैं उनका मुकदमा कैसे लड़ा जा रहा है, कौन लड़ रहा है और लड़ने के लिए पैसे कहां से आएंगे, इस पर किसी नेता ने कभी बात ही नहीं की!’

विजय के ये सवाल सही हैं लेकिन हम उनसे दूसरा सवाल करते हैं कि एकबारगी से तो ऐसा नहीं हुआ होगा कि देश भर से पुलिस यहां पहुंचने लगी और एक के बाद एक नौजवानों को उठाकर ले जाने लगी. इसकी आहट पहले भी तो सुनाई पड़ी होगी. इस बार जवाब सामाजिक कार्यकर्ता शकील सल्फी देते हैं. वे कहते हैं, ‘करीब एक दशक पहले फजलूर रहमान नामक एक आदमी पकड़ा गया था. उसका केस अभी भी दरभंगा की अदालत में चल रहा है. उस पर एक व्यवसायी के बेटे के अपहरण का मामला था. बाद में उसका कनेक्शन दाऊद इब्राहिम ग्रुप से बताया गया था. फिर यह भी कहा गया कि बॉलीवुड में भी उसके कारनामे रहे हैं. बहरहाल, बात आई-गई हो गई थी. 2009 में मधुबनी से उमैर मदनी को पकड़ा गया. तब इंडियन मुजाहिदीन नामक संस्था का नाम ताजातरीन था. फिर दो साल शांति रही, लेकिन 2011 के आखिर से तो जो सिलसिला शुरू हुआ उससे इस इलाके की पहचान ही बदल गई. कोई आतंक का दरभंगा मॉड्यूल कहने लगा तो कोई आतंकवादियों की नर्सरी.’ शकील कहते हैं,  ‘जो दोषी हो, उसे सजा दें, कठोर सजा दें, लेकिन पूरे इलाके को तो बदनाम न करें. फिर तो इस इलाके में मुसलमान होना और मुसलमानों का रहना ही गुनाह हो जाएगा!’

शकील जो कहते हैं वह होना शुरू भी हो चुका है. दरभंगा के सल्फी मदरसा में मिले एहतेशाम कहते हैं, ‘दिल्ली में हमारे साथियों को हॉस्टल, लॉज और कमरा तक मिलने में परेशानी हो रही है. यहां के जो बच्चे पहले से कहीं पढ़ रहे हैं, उन्हें संदेह के नजरिये से देखा जा रहा है.’ दूसरे लोग यह भी कहते हैं कि अभी से ही इलाके में शादी-ब्याह करने में लोग सोचने लगे हैं और आने वाले दिनों में मुश्किलें और बढ़ने वाली हैं.

तमाम दलों के नेताओं ने बाढ़ समैला जैसे गांवों का दौरा तो किया है लेकिन रस्मी तौर पर. दरभंगा और मधुबनी का संसदीय क्षेत्र फिलहाल भाजपा के खाते में है और पास का समस्तीपुर संसदीय क्षेत्र जदयू के हवाले. इन दोनों दलों के लिए यह कभी मसला नहीं रहा. लालू प्रसाद इस मसले को हमेशा उठाते रहे हैं लेकिन एक सीमा के बाद उनका बोलना भी रस्मी लगता है. राजद के ही गुलाम गौस जैसे नेता कुछ ज्यादा सक्रिय दिखे लेकिन उनकी भी एक सीमा रही. कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ शकील अहमद भी पास के ही इलाके से आते हैं, वे भी इधर आए लेकिन गोल-मोल बातों के अलावा कुछ न कर सके. मुसलमानों को सबसे नाराजगी है लेकिन सबसे ज्यादा नाराजगी इस बात से है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कुछ क्यों नहीं बोलते, इलाका बदनाम हो रहा है.

एक वर्ग से यह सवाल भी उठ रहा है कि आग लगी तो धुआं उठा या धुआं उठाकर आग होने के संकेत दिए जाते रहे हैं. और यह भी कि आखिर कोई राज्य क्यों ऐसी छूट दिए हुए है कि दरभंगा-मधुबनी इलाके में किसी राज्य की पुलिस पहुंचे और किसी को उठाकर ले जाए. कुछ समय पहले पुलिस महानिदेशक अभयानंद ने इस पर जवाब दिया था, ‘हमें बताकर किसी राज्य के पुलिसवाले आएं, तब तो हम बताएं कि असल माजरा क्या है.’  दरभंगा के एक पुलिस अधिकारी कहते हैं, ‘यह धुआं ऐसे ही नहीं उठा है, आग लगी थी. कुछ और गिरफ्तारियां होंगी तो आजमगढ़ की तरह कमर टूट जाएगी. लोग ही तंग होकर तौबा करने लगेंगे तो फिर आतंकी संगठन इधर नजर नहीं उठा सकेंगे.’  यह सुनकर हमें बाढ़ समैला के जमील की बात याद आती है जिनका कहना था कि बोधगया में कोई सुराग नहीं मिलेगा तो लकीर पीटने के लिए इधर ही आवाजाही बढ़ेगी.

हमारे यहां से निकलते-निकलते खबरें आने लगी हैं कि बोधगया बम कांड के तार इंडियन मुजाहिदीन और दरभंगा से जुड़ने के संकेत मिल रहे हैं. खुफिया विभाग ने दरभंगा, मधुबनी इलाके पर नजर रखने को कहा है ताकि उधर से कोई नेपाल न निकल जाए. शकील सल्फी कहते हैं, ‘नेपाल के पास होना भी एक बड़ा गुनाह ही है इस इलाके के मुसलमानों के लिए.’

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here