डीजल के थोक के रेट बढ़ने से बढ़ेगी महंगाई

डीजल के थोक के रेट में प्रति लीटर 25 रुपये बढ़ाये जाने से अब बाजारों में हर वस्तु पर महंगाई की मार निश्चित है। तहलका संवाददाता को ट्रांसपोर्टरों और व्यापारियों ने बताया कि, प्रति लीटर अचानक 25 रूपये के बढ़ाये जाने से बाजार में हाहाकार का माहौल बनने लगा है। वहीं कुछ लोग अभी से डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी को लेकर काला बाजारी करने में लगे है। जिससे गरीबों को काफी महंगाई की मार सहने को मजबूर होना पड़ेगा।

सरोजिनी नगर मार्किट एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक रंधावा का कहना है कि सरकार सत्ता के नशे में चूर है। वो ये नहीं देख रही है कि पहले कोरोना के कारण लोगों के काम-धंधे प्रभावित हुये थे। जिससे मध्यम वर्ग को काफी रोजी-रोटी चलाना मुश्किल हुआ है। जैसे-तैसे काम धंधा चला ही है। कि अब यूक्रेन और रूस की जंग के कारण डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी हो रही है। ऐसे में सरकार को देश के आम लोगों की माली हालत को देखते हुये।