‘जंगल हम-आपका, नहीं किसी के बाप का ’

सिंगरौली देश की बिजली राजधानी है. पावर प्लांट्स और कोयला खदान के बहाने निजी कंपनियों ने यहां ऐसा जाल बुना है कि सरकार और कंपनी के बीच फर्क मिट-सा जाता है. यहां के गांवों में कई सरकारी सुविधाओं को कंपनी के नाम पर परोसा जाता है, जिससे कंपनियों की छवि लोगों के बीच अच्छी बन सके. चाहे वह स्कूली बच्चों को दी जा रही सरकारी साइकिल पर महान कोल लिमिटेड छपा नाम हो या फिर उनकी यूनिफॉर्म. अवधेश के स्कूल में भी एक दिन कंपनीवाले यूनिफॉर्म बांटने आए थे लेकिन उसने लेने से साफ-साफ इनकार कर दिया. न जाने कितने जाड़ों में पहनी जा चुकी उसकी फटी जैकेट और पुरानी शर्ट कंपनी वालों के नये लक-दक स्कूली यूनिफॉर्म पर भारी पड़ गई थी.

अवधेश की अवयस्क चेतना इस बात को समझ चुकी है कि – कंपनी उसका भविष्य बिगाड़ेगी, उसके प्यारे से जंगल को छीन लेगी. ‘आज मिठाई बांटता है, कभी कपड़ा बांटने आता है. एक दिन कंपनीवाला बोला कि दस रुपये लोगे?  हम बोले दो तो बोला कि बोलो कंपनी के तरफ हो कि प्रिया (प्रिया महान संघर्ष समिति की कार्यकर्ता है और पिछले तीन साल से क्षेत्र में जंगल-जमीन बचाने के लिए संघर्षरत है) पाल्टी  (पार्टी) की तरफ? हम बोले, ‘प्रिया पाल्टी की तरफ, तो हमको भगा दिया.’

चार अगस्त, 2013 को महान संघर्ष समिति की तरफ से एक विशाल वनाधिकार सम्मेलन का आयोजन किया गया था. उससे एक दिन पहले तीन अगस्त को गांव वालों ने एक मशाल रैली निकाली थी. उस दिन रात में रैली को कंपनी कार्यालय के पास पुलिसवालों ने रोक लिया था. गांव के लोगों में थोड़ी-सी डर की लकीर थी लेकिन अवधेश वहां भी खड़ा था. मेरे पास आकर बोलता है, ‘ हम महान संघर्ष पाल्टी में हैं, आप नारा लगाइए न.’ महान संघर्ष समिति की हर बैठक में वह आस-पास मौजूद रहता है. समिति के कार्यकर्ताओं को बताता दिखता है, ‘देखिए! ई कंपनी का मनई (आदमी) है. देखिए वो मीटिंग की बात रिकॉर्डिंग कर रहा है.’

समिति के कार्यकर्ताओं को देखते ही जिंदाबाद का संबोधन करने वाले अवधेश को आंदोलन के दौरान बोले जाने वाले नारे मुंहजबानी याद हैं. वह भी दूसरे साथियों के साथ नारे लगाता है- ‘जंगल हमारा आपका, नहीं किसी के बाप का.’ ‘कमाने वाला- खाएगा, लूटने वाला-जाएगा, नया जमाना-आएगा, नया जमाना कौन लाएगा- हम लायेंगे, हम लायेंगे’

इस हारे हुए लोकतंत्र के जीते हुए सिपाही भले अवधेश जैसे बच्चों के लिए नया जमाना लाने में हार गए हों उसके द्वारा नया जमाना लाने की यह कवायद शायद सफल हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here