कांग्रेस का कल ”भारत बंद”

तेल की आसमान छूती कीमतों का होगा विरोध, २१ दलों का समर्थन

0
479

सोमवार को आपको दफ्तर जाना है या अपने किसी भी काम पर जाना है तो अपनी गाड़ी में आज ही कल सुबह जल्दी पेट्रोल भरवा लें। तेल की बढ़ती कीमतों और डॉलर के मुकाबले भारतीता रूपये की घटनी कीमत के खिलाफ कांग्रेस ने सोमवार को भारत बंद बंद की अप्पील की है। इस बंद के लिए कांग्रेस को २१ दलों का समर्थन मिला है।

तेल की कीमतों में रविवार को भी लगातार बढ़ोतरी जारी रही। आम व्यक्ति में इसे लेकर गुस्सा बढ़ रहा है क्योंकि इसका असर दुसरी चीजों की कीमतों पर भी दिखने लगा है। रूपये की कीमत भी डालर के मुकाबले लगातार घट रही है। लोगों में इसके खिलाफ बढ़ रहे गुस्से को भुनाने के लिए ही कांग्रेस और अन्य विरोधी दलों ने बंद की काल दी है। इस बंद के बहाने कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों को मोदी सरकार को घेरने का अवसर मिला है।

कांग्रेस ने रविवार को दावा किया कि उसके ”भारत बंद” को समाजवादी पार्टी , बहुजन समाज पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, डीएमके, राष्ट्रीय जनता दल, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, जनता दल सेक्युलर, राष्ट्रीय लोकदल, झारखंड मुक्ति मोर्चा, एमएनएस और कई अन्य दलों का समर्थन मिला है। हालाँकि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को कहा कि उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस महंगाई और पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के विरोध में है लेकिन वह बंद के समर्थन में नहीं क्योंकि इससे आम जनता को ही ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ती है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने रविवार को कहा –  ”कांग्रेस ने बंद का समय इसी आधार पर तय किया है, जिससे की आमलोगों को किसी भी तरह की दिक्कत का सामना ना करना पड़े”। कांग्रेस के मुताबिक यह बंद सुबह 9 बजे से दिन में तीन बजे तक होगा। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं का  आह्वान किया है कि बंद के दौरान किसी प्रकार की हिंसा न हो। ”कांग्रेस महात्मा गांधी के आदर्शों पर चलने वाली पार्टी है और आम आदमी को कोई तकलीफ न हो”।

इस बीच दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने बताया कि इस बंद के लिए कांग्रेस को 21 पार्टियों द्वारा समर्थन मिला है। कांग्रेस के पूर्व सांसद अजय माकन ने कहा कि कांग्रेस ने सोमवार को भारत बंद बुलाया है। माकन ने व्यापारियों से भी बंद को सफल बनाने की अपील की । उन्होंने बताया कि इस बंद के दौरान कोई हिंसा नहीं होगी। पार्टी ने अन्य विपक्षी दलों से भी बंद को सफल बनाने के लिए समर्थन देने की अपील की है।

जहाँ भाजपा दिल्ली में अपनी राष्ट्रीय कार्यकारणी के जरिये २०१९ के चुनाव की तैयारी कर रही है उसी तरह कांग्रेस और उसके साथी विपक्ष ने भी सरकार की नाकामियों को जनता के सामने उजागर कर अपने ढंग से चुनाव की तैयारी की शुरुआत की है। कांग्रेस अध्यक्ष इस समय कैलाश मानसरोवर यात्रा पर हैं।