इक्वाडोर

0
66
विश्व रैंकिंग: 26
सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन : दूसरा दौर (2006)खास बात

रूस में डायनामो मास्को के लिए खेलने वाले क्रिश्चियन नोबाओ इस टीम के सर्वश्रेष्ठ मिडफील्डर हैं. यह खिलाड़ी गेंद पर अपने नियंत्रण से अपनी टीम का भाग्य तय करने में अहम भूमिका निभाएगा

इस विश्व कप में इक्वाडोर की टीम जब-जब मैदान पर होगी तो 11 नंबर की जर्सी में कोई खिलाड़ी न तो मैदान पर और न ही डगआउट में नजर आएगा. इक्वाडोर के फुटबॉल फेडरेशन ने गत जुलाई में स्टार स्ट्राइकर क्रिश्चियन बेनिटेज के अचानक निधन के बाद इस जर्सी को ही रिटायर कर दिया. बेनिटेज की महज 27 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी. 2006 के विश्व कप में टीम को दूसरे दौर में पहुंचाने में बेनिटेज ने अहम भूमिका निभाई थी. ऐसे में उनके अनुभव की कमी खलेगी. कोच रेनाल्डो रुएडा ने एन्नार वालेंसिया को बेहद करीने से तैयार किया है ताकि वे बेनितेज की जगह भर सकें. मिडफील्ड में एंतोनियो वालेंसिया टीम की असली ताकत होंगे. मैनचेस्टर यूनाइटेड के लिए खेलने वाले एंतोनियो वालेंसिया और जैफरसन मोंटेरो के रूप में टीम के पास दो ऐसे खिलाड़ी हैं जो खेल को अपनी शर्तों पर चला सकते हैं. हालांकि अपने क्लबों के लिए इस सीजन में कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं लेकिन ब्राजील में उनका प्रदर्शन टीम में नई जान फूंक सकता है. डायनामो मॉस्को के लिए खेलने वाले क्रिश्चियन नोबाओ एक और बेहतरीन खिलाड़ी हैं जो बिना मौका गंवाए रक्षण से आक्रमण पर उतर सकते हैं. हालांकि रक्षा पंक्ति में जायरो कांपोस के घायल होने ने टीम को बड़ा झटका दिया है. अभी तक टीम के पास उनका कोई विकल्प नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here